No menu items!
33.1 C
New Delhi
Monday, September 20, 2021

मुस्लिम वैज्ञानिकों ने नफ’रत का जवाब फाइजर वैक्सीन बनाकर दिया: कावुसोग्लु

- Advertisement -

तुर्की के विदेश मंत्री ने शुक्रवार को कहा कि बायोएनटेक और फाइजर CO’VID-19 वैक्सीन का निर्माण करने वाले जर्मन-तुर्की वैज्ञानिकों की सफलता ने ज़ेनोफो’बिक रुझानों के खिलाफ एक सबक पेश किया है। इस दौरान उन्होने मुस्लिम वैज्ञानिक दंपति की भी प्रशंसा की।

वैश्विक महामारी से ल’ड़ने के लिए जल्दी से एक वैक्सीन विकसित करने के लिए वैज्ञानिक दंपत्ति उसुर Şahin और zlem Türeci के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए, मेव्लुत कावुसोग्लु ने कहा: “तुर्की से जर्मनी चले गए दो सम्मानित वैज्ञानिकों की सफलता भी उन लोगों के लिए एक सबक रही है जो विदेशियों को श’त्रुता और भ’य से देखते हैं।”

प्रसिद्ध तुर्की रिवेरा रिसॉर्ट में अंताल्या डिप्लोमेसी फोरम में अपने उद्घाटन भाषण में, कावुसोग्लु ने कहा कि फोरम को अपनी पहली भौतिक बैठक आयोजित करने से पहले दुनिया भर में मान्यता मिली। उन्होंने कहा, “दुनिया को ‘वेबिनार’ शब्द की आदत हो रही थी, जब हमने मध्यस्थता पर अपनी पहली ऑनलाइन बैठक की।” उन्होंने कहा कि अब तक सात उच्च स्तरीय बैठकें ऑनलाइन हो चुकी हैं।

उन्होंने कहा, “हमने म्यूनिख से बिश्केक (किर्गिस्तान) तक भी शारीरिक बैठकें कीं,” उन्होंने यह भी कहा कि अंताल्या डिप्लोमेसी फोरम “नई तकनीक और नई वैश्विक स्थितियों” का एक परिणाम है। फोरम की पहली वार्षिक बैठक में कुल 25 सत्र आयोजित किए जाएंगे।

कावुसोग्लु ने कहा कि मंच विशेष रूप से अफ्रीका, एशिया और यूरोप से एक मजबूत उपस्थिति का लक्ष्य रखता है, क्योंकि “विश्व गतिशीलता के लिए हमें इन महाद्वीपों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।”

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article