CAA विरोध: मुनव्वर राणा की बेटी समेत सेकड़ों अज्ञात महिलाओं पर FIR दर्ज

लखनऊ के घंटाघर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं का प्रदर्शन जारी है। इसी बीच महिलाओं के प्रदर्शन को रोकने के लिए पुलिस ने FIR दर्ज करना शुरू कर दिया है। पुलिस ने शायर मुनव्वर राणा की दो बेटियों समेत प्रदर्शन कर रही सेकड़ों महिलाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि पुलिस कार्रवाई के खिलाफ वह कोर्ट जाएंगी। पुलिस ने सीआर पीसी की धारा 144 के उल्लंघन के लिए तीन प्राथमिकी दर्ज कीं। महिलाओं के खिलाफ दर्ज एफआईआर में से एक के अनुसार, पुलिस ने आरोप लगाया कि सुमैय्या राणा और फौजिया राणा (मुनव्वर राणा की दोनों बेटियां) और दो अन्य महिलाएं घंटाघर पर मौजूद थीं और एक महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया।

पुलिस ने उन्हें धारा 188 (सरकारी आदेशों की अवहेलना) और धारा 353 (सार्वजनिक कर्तव्यों से बचने वाले लोक सेवक) के तहत दर्ज किया है। बहरहाल इन मुश्किलों के बावजूद महिलाएं और बच्चे वहीं पर बैठे रहे और उनका प्रदर्शन सुबह भी जारी रहा। प्रदर्शन में शामिल युवती वरीशा सलीम ने कहा था कि यह प्रदर्शन दिल्ली के शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन की तर्ज पर ही है और जब तक एनआरसी और सीएए को वापस नहीं लिया जाता तब तक यह जारी रहेगा।

प्रदर्शन कर रही महिलाओं का समर्थन करने पहुंची सामाजिक कार्यकर्ता सदफ जाफर ने ‘भाषा’ से बातचीत में कहा कि सीएए एक असंवैधानिक क़ानून है और यह देश की आत्मा के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि राजधानी लखनऊ में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के नाम पर पुलिस ने इन महिलाओं के बच्चों को सड़कों पर मारा, घरों में घुसकर तोड़फोड़ की और संगीन धाराएं लगाकर हिरासत में जुल्म किया। ऐसे में महिलाओं ने कहा है कि अब वह देखेंगी कि पुलिस उनका दमन करने के लिए क्या तरीके अपनाती है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE

[vivafbcomment]