No menu items!
33.1 C
New Delhi
Monday, September 20, 2021

यूपी के बाराबंकी में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में ओवैसी पर एफआईआर

- Advertisement -

एआईएमआईएम के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी और एक अन्य व्यक्ति के खिलाफ गुरुवार को उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में एक कार्यक्रम के दौरान भड़काऊ भाषण देने और कोविड -19 दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने के मामले में प्राथमिकी दर्ज की गई।

दरअसल ओवैसी ने एक रैली को संबोधित करते हुए मई में बाराबंकी-अयोध्या सीमा पर राम स्नेही घाट तहसील में एक मस्जिद को गिराने का उल्लेख किया। अधिकारियों ने दावा किया था कि मस्जिद एक अवैध संरचना थी, लेकिन स्थानीय लोगों ने जोर देकर कहा था कि यह एक सदी से वहां खड़ी है।

ओवैसी ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जब राज्य में उनकी जगह लेने की बात हो रही थी तो उन्होने मस्जिद को “बलिदान” किया। एआईएमआईएम प्रमुख ने इस विषय पर चर्चा की कि कैसे भारत में धर्मनिरपेक्षता को कमजोर करने और देश को “हिंदू राष्ट्र” में बदलने के प्रयास किए जा रहे हैं।

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि 2014 के बाद से दलित और मुसलमान मॉब लिं’चिंग के शिकार हो गए हैं, जब केंद्र में भाजपा के नेतृत्व वाला गठबंधन सत्ता में आया। 2015 में यूपी के गौतम बौद्ध नगर के दादरी के पास एक गांव में गोह’त्या के संदेह में भीड़ द्वारा हम’ला किए गए मोहम्मद अखलाक की ह’त्या का जिक्र करते हुए, ओवैसी ने कहा, “इस तरह के अत्या’चार हो रहे हैं क्योंकि मोदी प्रधान मंत्री हैं और भाजपा सरकार ऐसे तत्वों की मदद कर रही है।”

बाराबंकी में पुलिस ने ओवैसी और कार्यक्रम के आयोजक पर महामारी अधिनियम के तहत सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने और पीएम मोदी और सीएम योगी के खिलाफ तीखी टिप्पणी करने के लिए मामला दर्ज किया है। रिपोर्टों के अनुसार, आयोजकों को केवल 50 लोगों की मेजबानी करने की अनुमति दी गई थी, लेकिन यह कार्यक्रम एक सार्वजनिक बैठक में बदल गया ।

एसपी बाराबंक यमुना प्रसाद ने इंडिया टुडे को बताया, “इस आयोजन में दी गई अनुमति और कोविड -19 प्र’तिबंधों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई गईं। ओवैसी ने एक   समुदाय को भड़काने और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए भड़काऊ भाषण दिए। उन्होंने अपने भाषण में यूपी के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के खिलाफ अभद्र भाषा का भी इस्तेमाल किया। आईपीसी की धारा 153ए, 188, 279 और 270 और महामारी रोग अधिनियम की धारा 3 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article