विधानसभा में बोले नीतीश कुमार – हार में एनआरसी लागू होने का सवाल ही नहीं

पटना: नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर सोमवार को विपक्ष ने पटना में विधानसभा के बाहर जमकर प्रदर्शन किया। इस बीच विधानसभा में सीएम नीतीश कुमार ने एक बार फिर दावा किया कि बिहार में एनआरसी लागू होने का कोई सवाल ही नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह असम के संदर्भ में ही चर्चा में था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस पर सफाई दी है।

उन्होने कहा, विधानसभा में कहा कि हर उस मुद्दे पर चर्चा होनी चाहिए, जिसकी जरूरत हो और जिसको लेकर किसी के मन में कोई भ्रम हो। नीतीश कुमार ने कहा कि जिस बिंदु पर अलग-अलग राय आए उस पर चर्चा की जानी चाहिए। सीएम नीतीश सदन में तेजस्वी यादव द्वारा की गई मांगों के बाद जवाब दे रहे थे। सीएम ने साफ किया कि एनआरसी लागू करने का कोई सवाल पैदा नहीं होता। नीतीश ने कहा कि हम सीएए पर विशेष रूप से चर्चा करेंगे, लेकिन NRC का तो सवाल ही नहीं है।

नीतीश ने कहा कि एनआरसी का कोई औचित्य नहीं है। पीएम नरेंद्र मोदी ने भी एनआरसी पर स्पष्ट कर दिया है। नीतीश ने एनपीआर का जिक्र करते हुए कहा कि इसमें कुछ और भी पूछा जा रहा है, हम भी चाहते हैं कि इस विषय पर चर्चा हो। यदि सब लोग चाहेंगे तो सदन में भी चर्चा होगी। सीएम नीतीश कुमार ने इसके बाद जातिगत जनगणना का भी जिक्र किया और कहा कि हम भी चाहेंगे कि जातिगत जनगणना हो. जनगणना कास्ट बेस्ड होनी ही चाहिए।

गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन अधिनियम का नीतीश की पार्टी जदयू ने लोकसभा और राज्यसभा में समर्थन किया था। हालांकि इस पर पार्टी में अंदरुनी कलह शुरू हो गई थी। यहां आपको बता दें कि बिहार में नीतीश कुमार की सरकार फिलहाल बीजेपी के समर्थन से चल रही है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE