दिल्ली की हार पर सिंधिया बोले – ‘कांग्रेस को नई विचारधारा की जरूरत’

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गुरुवार को कहा कि दिल्ली की हार हमारी पार्टी के लिए बेहद निराशाजनक है। उन्होने कहा कि पार्टी को नई विचारधारा, नई सोच और कामकाज के नए तरीकों से खुद को मजबूत करने की जरूरत है।

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, “दिल्ली के परिणाम पार्टी के लिए बहुत निराशाजनक हैं और नई सोच, नई विचारधारा व कामकाज के नए तरीकों की आवश्यकता है।” देश बदल गया है, इसलिए हमें देश के लोगों के साथ नए तरीके से सोचने और जुड़ने का विकल्प चुनना होगा। 2015 और अब 2020 दिल्ली विधानसभा चुनावों में कांग्रेस का खाता तक नहीं खुला है।

इससे पहले कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी भी पार्टी की हार पर आलाकमान सहित राज्य इकाई के नेताओं पर बड़े सवाल खड़े कर चुकी हैं।

मुखर्जी ने एक ट्वीट में कहा, “हम दिल्ली में फिर हार गए। आत्ममंथन बहुत हुआ अब कार्रवाई का समय है। शीर्ष स्तर पर निर्णय लेने में देरी, राज्य स्तर पर रणनीति और एकजुटता का अभाव, कार्यकर्ताओं का निरुत्साह, नीचे के स्तर से संवाद नहीं होना हार के कारण हैं। मैं अपने हिस्से की जिम्मेदारी स्वीकार करती हूं।”

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम पर भी निशाना साधा। चिदंबरम के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए शर्मिष्ठा ने पूछा कि क्या कांग्रेस को अपनी दुकान बंद कर देनी चाहिए?

आम आदमी पार्टी को जीत की बधाई देने वाले चिदंबरम के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए शर्मिष्ठा ने कहा, “सर, उचित सम्मान के साथ बस इतना जानना चाहती हूं कि क्या कांग्रेस पार्टी राज्यों में भाजपा को हराने के लिए क्षेत्रीय दलों को आउटसोर्स कर रही है? अगर नहीं, तो फिर हम अपनी हार पर मंथन करने के बजाए आप की जीत पर गर्व क्यों कर रहे हैं? और अगर ऐसा है तो हमें (प्रदेश कांग्रेस कमेटी) संभवत: अपनी दुकान बंद कर देनी चाहिए।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE