Home राजनीति राहुल गाँधी ने मोदी से किये 10 चुभते हुए सवाल , सभी...

राहुल गाँधी ने मोदी से किये 10 चुभते हुए सवाल , सभी लोगो को रियायत देने की मांग

84
SHARE
voice hindi news cover

rahul_modi

नई दिल्ली | कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी नोट बंदी के बाद से एक अलग अवतार में है. शायद ही ऐसा कोई दिन होता होगा जब राहुल गाँधी प्रधानमंत्री मोदी पर प्रहार नही करते. हालाँकि मोदी भी हर बार पलटवार करने का कोई मौका नही चूकते. दोनों के बीच चल रही यह जुबानी जंग अब और तीखी होती जा रही है. राहुल गाँधी पहले ही मोदी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा चुके है, आज उन्होंने एक कदम आगे बढ़ते हुए उनसे 10 सवाल किये.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

राहुल गाँधी ने नोट बंदी से परेशान हो रहे गरीब मजदुर, किसान, आम आदमी को रियायत देने की मांग की. यही नही राहुल गाँधी ने किसानो का कर्जा माफ़ करने और बैंकों की लाइन में खड़े होकर मरने वाले लोगो को मुआवजा देने की मांग की. आइये जानते है की राहुल ने मोदी से कौन से 10 सवाल किये है.

  • प्रधानमंत्री मोदी जी बताये की नोट बंदी के बाद से अब तक कितना कालाधन आया है?
  • नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था को कितना नुक्सान पहुंचा है?
  • नोट बंदी की वजह से कितने लोग मारे गए है?
  • क्या मोदी सरकार ने नोट बंदी की वजह से मारे गए लोगो को मुआवजा दिया या नही?
  • अगर सरकार ने पीडितो को अभी तक मुआवजा नही दिया तो क्यों?
  • अभी तक नोट बंदी की वजह से कितने लोगो का रोजगार जा चूका है?
  • नोट बंदी का फैसला मोदी जी ने किसकी सलाह पर लिया?
  • नोट बंदी से दो महीने पहले किन किन लोगो ने बैंक खातो में 25-25 लाख रूपए जमा किया, सरकार उनकी लिस्ट जारी करे?
  • बैंक में जमा हुआ पैसा आम जनता का है सरकार का नही. फिर सरकार ने 24 हजार रूपए की लिमिट क्यों लगाई है?
  • स्विस बैंक के खाताधारको के नाम प्रधानमंत्री जी कब संसद के पटल पर रखेंगे?

इसके अलावा राहुल गाँधी ने कहा की नोट बंदी की वजह से सबसे ज्यादा नुक्सान किसानो का हुआ है इसलिए सरकार किसानो का कर्ज माफ़ करे और उनकी फसल के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 30 फीसदी का इजाफा करे. नोट बंदी की वजह रोजगार खोने वाले दिहाड़ी मजदूरो की मजदूरी दुगनी की जाये और बीपीएल महिलाओ के खातो में 30-30 हजार रूपए जमा किये जाये. राहुल ने इनकम टैक्स में भी 50 फीसदी की छूट देने की मांग की.

Loading...