CAA पर अकालियों ने दी BJP को नसीहत – ‘देश के हालात खराब, अल्पसंख्यकों को साथ लेकर चले’

देश के अलग-अलग हिस्सों में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के बीच मोदी सरकार को अब अपने ही सहयोगियों से नाराजगी झेलनी पड़ रही है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल (SAD) ने साफ कर दिया कि वह सीएए पर मोदी सरकार के साथ नहीं है।

गुरूवार को एक जनसभा के दौरान एनडीए की सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि कोई भी राष्ट्र सिर्फ धर्मनिरपेक्ष सरकारों से ही सुरक्षित रह सकता है। अमृतसर में एक रैली के दौरान प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि “यह गंभीर चिंता का विषय है कि देश की मौजूदा स्थिति ठीक नहीं है। सभी धर्मों का सम्मान होना चाहिए। यदि कोई सरकार सफल होना चाहती है तो उसे अल्पसंख्यकों को साथ लेकर चलना चाहिए।”

उन्होने कहा, इसमें हिंदू, मुस्लिम, सिख और ईसाई सभी होने चाहिए। उन्हें ऐसा महसूस होना चाहिए कि वो सभी एक परिवार का हिस्सा हैं। उन्हें एक-दूसरे को गले लगाना चाहिए और नफरत के बीज नहीं बोने चाहिए।’ उन्होंने आगे कहा, ‘हमारे संविधान में लिखा है कि हमारे देश में धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक शासन होगा।  धर्मनिरपेक्षता के पवित्र सिद्धांतों से कोई विचलन केवल हमारे देश को कमजोर करेगा। सत्ता में रहने वालों को एकजुट होकर और एक धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र के रूप में भारत की रक्षा के लिए अथक प्रयास करना चाहिए।’

प्रकाश सिंह बादल ने कहा, ‘सरकार को सिख गुरुओं से सीख लेनी चाहिए, जिन्होंने भाईचारे और सामाजिकता की वकालत की।’ उन्होंने सिख शासक महाराजा रणजीत सिंह का हवाला देते हुए कहा, ‘उन्होंने एक मुस्लिम को विदेश मंत्री नियुक्त किया था। उन्हें वोटों की चिंता नहीं थी। वो धर्मनिरपेक्षता के सही अर्थ को समझते थे, जिसके बारे में हमारा संविधान बात करता है।’

बता दें कि पीएम मोदी, प्रकाश सिंह बादल की काफी इज्जत करते हैं और कई बार विभिन्न कार्यक्रमों में प्रकाश सिंह बादल के पैर छूते दिखाई दिए हैं। पीएम मोदी ने 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान जब वाराणसी से नामांकन किया था, उससे पहले भी पीएम मोदी ने प्रकाश सिंह बादल के पैर छूकर आशीर्वाद लिया था।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE