अमित शाह CAA को मत ले वापस, मुस्लिमों को कर लें शामिल: उमर कासमी

भोपाल: मध्यप्रदेश कांग्रेस सचिव मौलाना उमर कासमी ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के उस बयान पर पलटवार किया है कि जिसमे उन्होने कहा कि वह किसी भी कीमत पर नागरिकता कानून को वापस नहीं लेंगे।

उमर कासमी ने शाह के बयान पर कहा कि ‘ठीक है। वह नागरिकता कानून को वापस ने ले। लेकिन उन्हे इस भेदभाव वाले कानून में मुस्लिमों को भी शामिल करना चाहिए। उन्होने पूछा मुस्लिमों को नागरिकता न देना कहां का न्याय है?

उन्होने कहा, संविधान में कहा गया कि देश में जो भी पैदा होगा या उसके माता-पिता पैदा होंगे तो उसे भारतीय नागरिकता मिलेगी। इसमें धर्म का कोई आधार नहीं होगा। लेकिन CAA में मुस्लिमों के साथ धर्म के आधार पर नागरिकता देने में भेदभाव किया जा रहा है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि CAA में मुस्लिमों को नागरिकता देने का प्रावधान नहीं किया गया और एनआरसी में नागरिकता छीनने का प्रावधान है। दोनों को मिलाकर मुस्लिमों को भारत में दोयम दर्जे का नागरिक बनाने की तैयारी की जा रही है। ताकि उनसे वोटिंग का अधिकार सहित अन्य सभी सुविधाएं छीनी जा सकें। लेकिन बीजेपी और संघ परिवार अपनी साज़िशों में पूरी तरह से नाकाम होगा।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE

[vivafbcomment]