अशोक गहलोत बोले – देशव्यापी लॉकडाउन लगाना ही एकमात्र विकल्प, केंद्र सरकार ले फैसला

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि केंद्र सरकार को देशव्यापी लॉकडाउन लगा देना चाहिए। ऐसा करके ही को’विड-19 की शृंखला तोड़ी जा सकती है। बता दें कि राजस्थान में ‘महामारी रेड अलर्ट जन अनुशासन पखवाड़ा लागू किया गया है।

उन्होने मोदी सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि पहले से ही ऑक्सीजन, दवाइयों और दूसरे उपकरणों की कमी है। और देश को जल्द ही डॉक्टर, चिकित्सा कर्मचारियों की कमी का सामना करना पड़ सकता है। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, “इस संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए, सोमवार से राज्य भर में 15 दिनों के लिए सख्त तालाबंदी लागू होगी। यह हम सभी का कर्तव्य है कि हम अपनी नागरिक जिम्मेदारियों का पालन करें और इस तालाबंदी का पूरी तरह से पालन करें ताकि राजस्थान को महामारी से बचाया जा सके। ”

गहलोत ने कहा कि राजस्थान अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर स्थिति में है। “अगर आप सरकार का समर्थन करते हैं, तो हम जल्द से जल्द कोरोना को हरा पाएंगे।” 6Cov’id19 मामलों में वृद्धि के मद्देनजर, राजस्थान सरकार ने 10 मई से 24 मई तक संपूर्ण लॉकडाउन लगाने की घोषणा की। इसके अलावा 31 मई तक विवाह पर प्रतिबंध रहेंगे।

इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी के देशव्यापी बंद के आह्वान का समर्थन करते हुए कहा  था कि पिछले साल का अनियोजित लॉकडाउन जनता पर घात’क वार था इसलिए मैं सम्पूर्ण लॉकडाउन के ख़िलाफ़ हूँ। लेकिन PM की नाकामी और केंद्र सरकार की ज़ीरो रणनीति देश को पूर्ण लॉकडाउन की ओर धकेल रहे है। ऐसे में ग़रीब जनता को आर्थिक पैकिज और तुरंत हर तरह की सहायता देना ज़रूरी है।