मध्य प्रदेश में संतरे के बाग में कोरोना मरीजों का इलाज, डर से लोगों ने अस्पताल जाना छोड़ा

मध्य प्रदेश के आगर जिले में कोरोना मरीजों ने डर से अस्पताल ही जाना छोड़ दिया और झोलाझाप डॉक्टर से इलाज करा रहे है। डॉक्टर ने भी संतरे के बाग में ही मरीजों को लिटाकर इलाज कर शुरू कर दिया।

जिले के सुसनेर करीब मुख्य सड़क के पास ही मरीजों का इलाज किया जा रहा। पेड़ों पर ही सलाइन लटका दी गई। आसपास के करीब 10 गांवों के लोग यहां इलाज कराने आ रहे है। दरअसल, ग्रामीणो को डर है कि अस्पताल गए तो सर्दी बुखार वाले लोगों को वहां कोरोना वार्ड में भर्ती कर देंगे।

बताया जा रहा है कि सुसेनर के ग्रामीण इलाकों में ज्यादातर जगहों पर ऐसे ही हालात हैं। इलाज के दौरान मरीजों के चेहरे पर कोई मास्क भी नहीं है। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं किया जा रहा है। मामला संज्ञान में आते ही प्रशासन ने इन झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई करने की बात कही है।

मीडिया से बात करते हुए सुसनेर बीएमओ ने कहा कि इन झोलाछाप डॉक्टरों को पहले चेतावनी दी है, लेकिन वह नहीं मान रहे हैं, अब इनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बुधवार को अधिकारियों ने इन डॉक्टरों पर कार्रवाई की है।