Home राष्ट्रिय खुले में नमाज का विरोध तो वक्फ बोर्ड ने मांगी खट्टर सरकार...

खुले में नमाज का विरोध तो वक्फ बोर्ड ने मांगी खट्टर सरकार से अपनी जमीन

123
SHARE

हरियाणा के गुरुग्राम में बीते दिनों हिंदूवादी संगठनों की ओर से मुस्लिमों को शुक्रवार की नमाज पढ़े जाने से रोके जाने का मामला शांत होता नहीं दिख रहा है. सीएम मनोहर लाल खट्टर ने मुस्लिमों को मस्जिदों और ईदगाह में नमाज पढ़ने की बात कही.

तो वहीँ दूसरी और अब वक्फ बोर्ड ने भी अपनी सरकार से अपनी जमीनों की वापसी की मांग कर दी है. हरियाणा वक्फ बोर्ड ने गुरुग्राम के जिला प्रशासन को पत्र लिखकर अपनी 20 संपत्तियों से अतिक्रमण हटवा कर संपति सौंपने की बात कही है.

Image may contain: text

गुड़गाँव में गैर प्रांत कामगार मुसलमानों की एक अनुमानित तादाद करीब चार से पांच लाख है. लेकिन वे सभी गुड़गाँव के बाहर से आए हुए जिन्हें नमाज़ के लिए पार्क या सरकारी जगहों का इस्तेमाल करना पड़ता है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

No automatic alt text available.

बता दें कि इससे पहले अनिल विज ने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए कहा था कि, ‘कभी-कभार अगर किसी को जरूरत पड़ जाती है तो धर्म की आजादी है लेकिन किसी जगह को कब्जा करने की नीयत से नमाज पढ़ना गलत है. उसकी इजाजत नहीं दी जा सकती है.’

Image may contain: text

वहीँ सीएम खट्टर ने कहा था कि ‘यह हमारी ड्यूटी है कि कानून और व्यवस्था को बनाए रखा जाए. खुले में नमाज पढ़ने का प्रचलन बढ़ा है. सार्वजनिक स्थानों पर नमाज पढ़ने की बजाय मस्जिद और ईदगाह में जाना चाहिए.’