रूस भारत में अगले हफ्ते 40 हजार लोगों पर करेगा कोरोना वैक्सीन का ट्रायल

रूस भारत में अगले हफ्ते 40 हजार लोगों पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल शुरू करने जा रहा है। दरअसल, रूस कोविड19 के टीके स्पूतनिक-5 के उत्पादन के लिए भारत के साथ साझेदारी करने का इच्छुक है।

रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआइएफ) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) किरिल दिमित्रीव ने गुरुवार को कहा कि कोविड-19 की वैक्सीन ‘स्पुतनिक-5’ के उत्पादन के लिए उनका देश भारत के साथ साझेदारी का इच्छुक है। स्पुतनिक-5 को गमालिया रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी ने आरडीआइएफ के साथ मिलकर विकसित किया है।

दिमित्रिएव के अनुसार, भारत, ब्राजील, सऊदी अरब और फिलीपींस समेत कई देश आखिरी चरण के ट्रायल में हिस्सा लेने का विचार कर रहे हैं। भारत सरकार ने विदेशों में बन रही वैक्सीन की जानकारी रखने के लिए एक राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह गठित किया है। इसका मकसद दुनिया में कहीं भी कोविड19 की वैक्सीन पर चल रहे नए तकनीक, तैयारी, उत्पादन आदि की पूरी जानकारी रखना है। ये एक्सपर्ट भारतीय कंपनियों को इन वैक्सीन को पाने, जरुरी टेस्टिंग आंकड़े नियामक संस्थाओं तक पहुंचाने का काम करेंगे।

दिमित्रीव ने बताया कि घरेलू नियामक मंजूरी के लिए वैक्सीन का रूस भर में 40 हजार से ज्यादा लोगों पर ट्रायल किया जाएगा। अगले हफ्ते जब इसकी शुरुआत की जाएगी तो विदेशी अनुसंधान संगठन भी इसकी निगरानी कर सकेंगे।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE