CAA के खिलाफ प्रदर्शनों में विपक्ष की एकता जरूरी: नोबेल विजेता अमर्त्य सेन

नई दिल्ली: संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ जारी विरोध-प्रदर्शनों को लेकर नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन (Amartya Sen) ने सोमवार को कहा कि किसी भी कारण के लिए प्रदर्शन करने की खातिर विपक्ष की एकता जरूरी है।

हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि विपक्ष में एकता नहीं होने के बावजूद प्रदर्शन जारी रह सकते हैं। सेन ने सोमवार रात पत्रकारों से कहा कि किसी भी तरह के प्रदर्शन के लिए विपक्ष की एकता आवश्यक है। ऐसे में प्रदर्शन आसान हो जाते हैं। अगर प्रदर्शन जरूरी बात के लिए हो तो एकता जरूरी है।

उन्होंने कहा, ‘लेकिन अगर एकता नहीं है तो इसका मतलब यह नहीं है कि हम प्रदर्शन बंद कर देंगे। जैसा कि मैंने कहा, एकता से प्रदर्शन आसान हो जाता है, लेकिन अगर एकता नहीं है तो भी हमें आगे बढ़ना होगा और जो जरूरी है, वह करना होगा।’

बता दें, अमर्त्य सेन ने नागरिकता (संशोधन) कानून या सीएए को लेकर कहा था कि यह संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन करता है। अमर्त्य सेन ने बेंगलुरु में इन्फोसिस में संवाददाताओं से बात करते हुए कहा था, ‘सरकार द्वारा बनाए गए CAA कानून को मेरी नजर में सुप्रीम कोर्ट द्वारा असंवैधानिक होने के आधार पर रद्द कर दिया जाना चाहिए क्योंकि हमारे पास ऐसे मौलिक मानवाधिकार नहीं हैं जो नागरिकता को धार्मिक मतभेदों के आधार पर जोड़ते हैं।

उन्होंने कहा था, “(संशोधित) कानून के बारे में पढ़ने के बाद मेरा यह मानना है कि यह संविधान के प्रावधान का उल्लंघन करता है।” उन्होंने कहा कि धर्म के आधार पर नागरिकता, संविधान सभा में चर्चा का विषय बना हुआ था, जहां यह तय किया गया कि “इस तरह के भेदभाव के उद्देश्य के लिए धर्म का उपयोग करना स्वीकार्य नहीं होगा।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE