महाराष्ट्र में नहीं थम रहा कोरोना का कहर, 31 जुलाई तक बढ़ाया गया लॉकडाउन

महाराष्ट्र में कोरोनो वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसे में अब राज्य में अब 31 जुलाई तक के लिए लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है। राज्य के चीफ सेक्रटरी अजॉय मेहता की तरफ से लॉकडाउन बढ़ाने का आदेश जारी किया गया है।

मुख्य सचिव अजॉय मेहता की ओर से सोमवार को जारी आदेश में कहा गया है कि मास्क लगाने, शारीरिक दूरी, सभाओं पर पाबंदी और अन्य नियमों का पालन जारी रहना चाहिए। सरकार ने सलाह दी है कि जहां तक संभव हो सके घर से ही काम किया जाए।

महाराष्ट्र सरकार ने आपातकालीन, स्वास्थ्य और चिकित्सा, कोषागार, आपदा प्रबंधन, पुलिस को छोड़कर सभी सरकारी कार्यालयों को 15 फीसदी स्टाफ या 15 व्यक्तियों जो अधिक हो उसके साथ काम करना होगा। सभी निजी कार्यालय 10 प्रतिशत स्टाफ या 10 व्यक्तियों जो अधिक हो उसके साथ काम कर सकते हैं।

महाराष्ट्र के ठाणे में 2 जुलाई से लेकर 10 जुलाई तक कंप्लीट लॉकडाउन को लागू किया गया है। यहां पर ठीक उसी तरह की स्थिति होगी जैसे अप्रैल-मई में लॉकडाउन के दौरान थी। केवल इसेंशियल सर्विसेज की दुकानों को ही खुला रखा जाएगा।

रविवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रदेश की जनता को संबोधित करते हुए कह दिया था कि 30 जून के बाद भी राज्य में लॉकडाउन लागू रहेगा, लेकिन इसमें धीरे-धीरे ढ़ील भी दी जाएगी। प्रदेश के हालातों को देखते हुए उन्हें अनलॉकिंग के लिए बेहद सावधानी बरतनी होगी। मुख्यमंत्री ने कहा था कि “ऐसा मत सोचिए कि 30 जून के बाद अचानक सबकुछ पहले की तरह नॉर्मल हो जाएगा। मेरी आप सभी से अपील है कि घर पर ही रहें। जब तक बहुत ज़रूरी न हो भीड़ भाड़ वाली जगह पर मत जाए। धीरे-धीरे हम अनलॉक की तरफ बढ़ रहे हैं, लेकिन हमें इसमें काफी सावधानी बरतनी होगी। हालांकि, ये लोगों पर निर्भर है कि वे लॉकडाउन चाहते हैं या नहीं”

ठाकरे ने कहा कि राज्य सरकार ने चुनावों से पहले किसानों को कर्ज माफी के बारे में वादा किया था लेकिन महाराष्ट्र में स्थानीय निकाय चुनावों और कोविड -19 महामारी के दौरान लागू आदर्श आचार संहिता के कारण कृषि ऋण माफ की प्रक्रिया में देरी हुई है। उन्होंने कहा, “लेकिन अब हमने किसानों की ऋण माफी का फैसला लिया है।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE