जामिया हिंसा पर बोली VC नजमा – पुलिस के खिलाफ जाएंगे कोर्ट, छात्रों ने कहा – हमें भरोसा नहीं

नई दिल्ली: बीती 15 दिसंबर को नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में पुलिस की बर्बर कार्रवाई के खिलाफ छात्रों में अब भी भारी गुस्सा है। पुलिस पर कार्रवाई न होते देखे छात्रों ने आज वाइस चांसलर के दफ्तर का घेराव किया।

छात्र सुबह से ही कैम्पस में प्रदर्शन कर रहे थे। उनकी मांग थी कि परीक्षाओं का टाइम टेबल फिर से बनाया जाए, सुरक्षा मजबूत की जाए और 15 दिसंबर को कैम्पस में पुलिस लाठीचार्ज के मामले में एफआईआर दर्ज करवाई जाए। इसके बाद छात्रों ने मेन गेट तोड़कर कुलपति का दफ्तर घेर लिया।

ऐसे में 28 दिन में पहली बार कुलपति को इस मामले में छात्रों से सीधा संवाद करना पड़ा। नजमा अख्तर ने कहा, ‘हमने सरकार को अपनी आपत्तियां भेजी हैं, अब हम कोर्ट भी जाएंगे। एक पत्रकार ने मेरा आधा-अधूरा इंटरव्यू दिखाया, मैं कहती हूं कि वो मेरा पूरा इंटरव्यू दिखाए। मैं आप सभी से निवेदन करती हूं कि आप अपने शब्द मेरे मुंह में नहीं डालें। जो मुझे बोलना है वो मैं बोलूंगी। दिल्ली पुलिस हमारे कैंपस में हमसे पूछे बगैर आई थी। उन्होंने हमारे मासूम बच्चों को पीटा था। हम न्याय की दिशा में हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं।’

दिल्ली पुलिस के खिलाफ FIR दर्ज कराने के सवाल पर VC ने कहा, ‘आप मुझसे तारीख मत पूछिए, मैंने आपसे कह दिया तो ये होकर रहेगा। हम कोशिश ही कर सकते हैं और कोशिश ही कर रहे हैं। आप लोग थोड़ा टाइम दीजिए। आप लोग परीक्षाओं को FIR से नहीं जोड़ सकते हैं। हम कोर्ट जाएंगे और कोर्ट की तारीखें हम तय नहीं कर सकते हैं। आप लोगों की ही मांग पर यूनिवर्सिटी को खोला गया।’ हालांकि, कुलपति के इस जवाब पर छात्रों ने नारेबाजी की और कहा कि हमें आपकी बात पर भरोसा नहीं है।

गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून पर प्रदर्शन के दौरान दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में हिंसा हुई थी। जिसके बाद पुलिस कैंपस के अंदर घुसी थी और प्रदर्शनकारियों की पिटाई की थी। पुलिस की इस कार्रवाई के खिलाफ कई जगहों पर प्रदर्शन किया गया। इस हिंसा में डीटीसी की चार बसें, 100 निजी वाहन और पुलिस की 10 मोटरसाइकिलें क्षतिग्रस्त हो गई। पुलिस ने कहा कि उसने प्रदर्शनकारियों द्वारा ”उकसाए जाने के बावजूद ”अधिकतम संयम, न्यूनतम बल का इस्तेमाल किया।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE

[vivafbcomment]