देवबंदी उलेमा बोले – निखिल के साथ नुसरत का था नाजायज रिश्ता, तौबा कर अपनाए फिर से इस्लाम

फिल्म एक्ट्रेस व टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने हाल ही में अपनी शादी को अवैध बताते हुए कहा कि वह अपने कथित पति निखिल जैन के साथ लिव इन रिलेशन में रह रही थी। हालांकि वह उनसे एक साल पहले ही अलग हो चुकी है। वह गर्भवती बताई जा रही है। लेकिन निखिल का साफ कहना है कि वह उनका बच्चा नहीं है।  इसी बीच अब देवबंदी उलमा ने नुसरत को फिर से इस्लाम कबूलने की नसीहत दी है।

देवबंदी उलमा का कहना है कि नुसरत जहां और निखिल की शादी नहीं, बल्कि नाजायज रिश्ता था। इत्तेहाद उलमा ए हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना कारी मुस्तफा देहलवी ने कहा कि नुसरत जहां को अपने गुनाह के लिए अल्लाह से माफी मांगनी चाहिए। इस्लाम में दोबारा दाखिल होने के लिए कलमा पढ़ना होगा। उन्होंने कहा कि नुसरत जहां ने जिस तरह के काम किए हैं, ऐसे लोगों का कोई ईमान-धर्म नहीं होता।

उन्होंने आगे कहा कि इनकी शादी तो तुर्की रीति रिवाज के अनुसार हुई है तो ऐसे में यह शादी ही नहीं है। नाजायज तालुकात है यह केवल दो धर्मों की शादी थी। उन्होंने कहा किवह निखिल जैन संग लिवइन रिलेशन में थीं तो शरीयत में इसे बड़ा गुनाह माना जाता है। उन्होंने कहा कि नुसरत जहां अपने आपको अल्लाह का गुनहगार समझती हैं तो अपने किए के लिए तौबा करें।

वहीं मौलाना कारी मुस्तफा का कहना है कि नुसरत जहां ने शादी को लेकर बयान दिया है, वह ठीक है। क्योंकि ये शादी नहीं नाजायज रिश्ता था। अब नुसरत जहां अल्लाह से तौबा करें और कलमा पढ़कर दोबारा इस्लाम में दाखिल हों। जबकि मोहतमिम मौलाना मुफ्ती असद कासमी ने कहा है कि इस्लाम में कहा गया है कि बिना शादीशुदा लड़के-लड़की साथ रहें या मुलाकात करें तो यह नाजायज है। नुसरत जहां इससे सबक लेकर गुनाह केे लिए तौबा करें।

बता दें कि नुसरत ने 2019 में बिजनसमैन निखिल जैन से शादी की थी। नुसरत ने कहा कि निखिल जैन से उनकी शादी कानूनी रूप से अवैध है। ऐसे में उन्हें तलाक लेने की जरूरत नहीं है।