Home राष्ट्रिय बीजेपी आईटी सेल ने गांधी परिवार और नामी पत्रकरों को निशाने पर...

बीजेपी आईटी सेल ने गांधी परिवार और नामी पत्रकरों को निशाने पर लेने के लिए बनायी थी टीम

92
SHARE

cover3-1024x512-720x360

नई दिल्ली | सोशल मीडिया पर राजनेताओ और पत्रकारों को ट्रोल होते रोज देखा जा सकता है. कभी कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी तो कभी केजरीवाल, रोजाना इन लोगो पर भद्दे भद्दे कमेन्ट किया जाता है , मजाक बनाया जाता है. यही नही कुछ विशेष पत्रकार भी इन लोगो के निशाने पर रहते है. NDTV के बरखा दत्त और रविश कुमार ट्वीटर पर खूब ट्रोल किये जा रहे है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पिछले दो सालो में यह कुछ ज्यादा ही बढ़ गया है. आखिर ये लोग कौन है और इन लोगो का मकसद क्या है? क्या किसी नेता या पत्रकार को अपनी बात कहने का हक़ नही है? अगर किसी पार्टी के नेता के खिलाफ कुछ बोला जाता है तो उस नेता के समर्थक सोशल मीडिया पर गाली गलोच तक करने लगते है. सोशल मीडिया पर इस तरह का व्यवहार करने वाले लोगो के बारे में एक किताब के जरिये खुलासा किया गया है.

पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी की किताब ‘आई एम अ ट्रोल’ में खुलासा किया गया है की बीजेपी की आईटी सेल ने गांधी परिवार, नामी पत्रकार और नामी लोगो को सोशल मीडिया पर ट्रोल करने के लिए एक टीम का गठन किया गया था. इस किताब में बीजेपी आईटी सेल की पूर्व वॉलंटियर साध्वी खोसला के हवाले से बताया गया की हमें नामी पत्रकारों की एक लिस्ट दी गयी थी जिनको सोशल मीडिया पर ट्रोल करना था.

इस किताब में बताया गया की अगर कही भी प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ कोई टिप्पणी आती है तो बीजेपी की डिजिटल ट्रेकिंग टूल के जरिये उसको सही किया जाता है. इस किताब में यह भी दावा किया गया की बीजेपी ने इसके लिए कुछ एजेंसीज भी हायर की थी . इन एजेंसीज को विपक्षी नेताओ पर हमला करने के लिए पैसे दिए जाते थे. अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ 7 ट्वीट करने के 40 रूपए दिए जाते थे.

इस पूरी किताब में बीजेपी आईटी सेल के मुखिया अरविन्द गुप्ता पर निशाना साधा गया है. किताब में बताया गया की लोकसभा चुनाव में सोशल मीडिया के प्रभावी इस्तेमाल से बीजेपी काफी प्रभावित थी . इसी वजह से बीजेपी आगामी उत्तर प्रदेश के चुनावो में भी सोशल मीडिया का काफी इस्तेमाल किया जायेगा. इसके लिए टीम का विस्तार भी किया जा रहा है. उधर अरविन्द गुप्ता ने सभी आरोपों को ख़ारिज किया है.

Loading...