Home अन्तर्राष्ट्रीय इजराइल कर रहा सबसे “खतरनाक” गैस से फिलिस्तीनियों पर हमले

इजराइल कर रहा सबसे “खतरनाक” गैस से फिलिस्तीनियों पर हमले

125
SHARE

पिछले महीने के आखिरी दिनों से गाजा पट्टी में फिलिस्तीनियों का प्रदर्शन जारी है, इजरायल की फायरिंग से कई  फिलीस्तीनीयों की मौत हो गई और कई घायल हो गए. फिलिस्तीनी स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक अब तक 25 से ज्यादा फिलिस्तीनियों की मौत इजराइल की गोलीबारी से हो गयी.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर की खबरों के अनुसार “हजारों फिलिस्तीनियों ने इजराइल की सेना के खिलाफ छह दिनों से लगातार विरोध किया और यह विरोध प्रदर्शन जारी है.’ प्रदर्शनकारी अपने अधिकारों की मांग कर रहे हैं,  हाल ही में हुई मौत अंतरराष्ट्रीय चिंताएं हैं. पिछले गुरुवार को, इजरायल के मुख्य सैन्य प्रवक्ता ब्रिगेडियर-जनरल रोनेन मैनेलिस ने चेतावनी दी थी कि यदि प्रदर्शन रोक नहीं गए तो इजरायल गाजा के अंदर गहराई से आक्रमण कर सकता है.

इजराइल ने किया फिलिस्तीनियों के खिलाफ यह 

मिडिल ईस्ट मॉनिटर की खबरों के मुताबिक “इजराइल की सेना ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे -जिनके पास हथियार भी नहीं है – के खिलाफ अजीब और अज्ञात गैसों का इस्तेमाल किया.”

सेंट्रल कमीशन फॉर डोक्युमेनटेशन एंड परसूट के प्रमुख इमाद अल-बाज ने कहा है की “इजराइल ने पहली बार इन गैसों- जिनका नाम ज्ञात नहीं है- का इस्तेमाल किया क्योंकि फिलिस्तीनियों ने अपना शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी रखा.”

उन्होंने कहा की ”इन अज्ञात गैसों की वजह से प्रदर्शनकारी अचानक से कांपने लगे और आधे से जायदा प्रदर्शनकारियों ने अपनी चेतना खो दी.”

पहली बार किया गया इन गैसों का इस्तेमाल 

उन्होंने कहा की “इन गैसों के बारे में हमें कुछ भी नहीं पता है, जिनका उपयोग पहली बार किया गया है,लेकिन हम इन खतरनाक गैसों के इस्तेमाल से प्रभावित हुए लोगों के यूरिन और ब्लड के सैंपल ले गए है और हमें उम्मीद है की इसके परिणाम भी कुछ चौंकाने वाले होंगे.”

इजरायल के कब्जे वाले बलों ने प्रदर्शनकारियों पर गैस छोड़ने के लिए मानव रहित ड्रोन का इस्तेमाल किया .

उन्होंने कहा की “विरोध प्रदर्शनकारियों के शरीर के निचले हिस्सों को इजराइल के सैनिकों द्वारा निशाना बनाया जा रहा है , जिसमे अभी तक 55% लोगों को उनके निचले हिस्सों – जननांगो – में गोली मार दी गयी.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर की खबरों के मुताबिक “30 मार्च से शुरू हुए इस विरोध प्रदर्शन में अब तक 32 लोगों की मौत हो गयी और 2,850 लोग घायल हो गए.”