अमेरिका में बीजेपी के खिलाफ इस्लामोफोबिया को लेकर प्रस्ताव पास

संयुक्त राज्य अमेरिका में मिनेसोटा की राज्य की राजधानी सेंट पॉल की नगर परिषद ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित किया है, जिसे भारत की सत्तारूढ़ पार्टी की “इस्लामोफोबिक विचारधारा” कहा जाता है।

भारतीय जनता पार्टी की इस्लामोफोबिक विचारधारा को खारिज करते हुए और धर्म और जाति की परवाह किए बिना संत पॉल ने दक्षिण एशियाई समुदाय के साथ एकजुटता व्यक्त करते हुए भारत के नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) की राष्ट्रीय रजिस्ट्री का विरोध करते हुए संकल्प पारित किया।

सेंट पॉल सिटी काउंसिल के संकल्प RES-20-712 पर बुधवार 20 मई, 2020 कोवोटिंग हुई। जिसमे 5-0 वोट डले और दो सदस्य अनुपस्थित रहे। यह अधिनियम पड़ोसी पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश और अन्य मुस्लिम देशों में उत्पीड़न के चलते आये हिंदुओं, ईसाइयों, सिखों, पारसियों, जैनों और बौद्धों को भारतीय राष्ट्रीयता प्रदान करने का प्रयास करता है।

लेकिन, आलोचकों का कहना है कि नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (NRC) के साथ संयुक्त कानून मुसलमानों को लक्षित करता है। सत्तारूढ़ भाजपा इन आशंकाओं से इनकार करती है।

प्रस्ताव को 36 संगठनों ने समर्थन दिया, जिसमें Amnesty International, the American Civil Liberties Union, the Muslim Caucus of America, Hindus for Human Rights, Jewish Voice for Peace Twin Cities, The Advocates for Human Rights शामिल है।

इसके अलावा स्थानीय स्तर पर SEIU Local 284, the Minnesota Nurses Association, Jewish Community Action and World Without Genocide ने भी अपना समर्थन दिया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE