No menu items!
41.1 C
New Delhi
Wednesday, May 18, 2022

ब्रिटेन के न्यायाधीश का नियम: काम पर किसी आदमी को ‘गंजा’ कहना यौ’न उत्पी’ड़न है, ‘गंजा’ कहने पर एक आदमी ने दर्ज कराया था केस

गंजापन आदमियों में आम है और ये पुरुषो में बहुत ज़्यादा देखने को मिलता है लेकिन जो इस परेशानी से जूझ रहे होते है उनके लिए ये मुश्किल भरा वक़्त होता है क्योकि लोग उनका मज़ाक उड़ाते है जिसके चलते कभी-कभी वो डिप्रेशन के शिकार भी हो जाते है और गलत कदम उठा लेते है।

अब इसी के चलते ब्रिटेन में एक जज ने वर्किंग स्पेस पर किसी भी आदमी को ‘गंजा’ कहना यौ’न उत्पी’ड़न के बराबर बताया है।

यूके टेलीग्राफ के अनुसार, रोजगार न्यायाधिकरण ने कहा कि चूंकि महिलाओं की तुलना में पुरुषों में बालों का झड़ना अधिक आम है, इसलिए इस शब्द का प्रयोग लिं’ग से ‘स्वाभाविक रूप से संबंधित’ है।

ये मामला तब सामने आया जब एक इलेक्ट्रीशियन, टोनी फिन के बाद आई, जिसने यॉर्कशायर के एक छोटे से पारिवारिक व्यवसाय पर उसका अप’मान करने के लिए इस शब्द का इस्तेमाल करने के लिए मुकदमा दायर किया। फिन के सुपरवाइजर में से एक, जेमी किंग ने कथित तौर पर उसे ‘मोटा’ और ‘गंजा’ कहा और उसे निकाल दिया।

जिसके चलते इस केस के लिए तीन न्यायाधीशों के एक पैनल को यह विचार करने के लिए प्रेरित किया कि क्या टिप्पणी अपमानजनक थी या उत्पी’ड़न के रूप में योग्य थी।

ट्रिब्यूनल ने कहा, “हमारे फैसले में, एक तरफ ‘गंजा’ शब्द कहना गलत है।” “हम इसे स्वाभाविक रूप से से’क्स से संबंधित पाते हैं।”

न्यायाधीशों ने आगे कहा कि पुरुषों में इस तरह की टिप्पणी के “on the receiving end” होने की अधिक संभावना है, क्योंकि पुरुषों में गंजापन अधिक प्रचलित है।

ट्रिब्यूनल ने कहा, “यह ये गलत तरह की भाषा है… हमारे फैसले में, मिस्टर किंग ने उस व्यक्ति के बारे में व्यक्तिगत टिप्पणी करके सीमा पार कर दी।”

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
3,312FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts