No menu items!
33.1 C
New Delhi
Monday, September 20, 2021

अर्थव्यवस्था में सुधार को लेकर तालिबान ने बुलाया जिरगा, हुआ ये फैसला

- Advertisement -

तालिबान ने नकदी की तंगी से जूझ रहे अफगानिस्तान में आर्थिक सुरक्षा को लेकर एक पारंपरिक जिरगा या समुदाय के बुजुर्गों का जमावड़ा बुलाया है। जिरगा का आयोजन बुधवार को राजधानी काबुल में विदेश कार्यालय भवन में किया गया।

विधानसभा के सौ से अधिक सदस्यों ने कतर में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के सदस्य अनस हक्कानी और हक्कानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक्कानी के बेटे सहित वक्ताओं को सुना, जिसे अमेरिका द्वारा एक आतं’कवादी समूह के रूप में नामित किया गया है।

पक्तिका प्रांत में खरोती जनजाति के अरसाला खारोटी ने अपने भाषण में कहा, “समय आ गया है कि हम एकजुट हों, मतभेदों को दूर करें और अफगानों को सामाजिक न्याय दें।” उन्होंने 1978 में अफगानिस्तान में राजनीतिक उथल-पुथल और बाद के वर्षों में पूर्व सोवियत संघ के अफगानिस्तान पर आ’क्रमण का हवाला देते हुए पिछले 43 वर्षों के दौरान अफगान राष्ट्र की कठिनाइयों का उदाहरण दिया।

एक अन्य वक्ता, शेख खालिद के अनुसार, अमेरिका ने पिछले 20 वर्षों में समाज को विभाजित किया है, जिसमें अमीर-गरीब विभाजन दिखाई दे रहा है। तालिबान के सर्वोच्च नेता हिबतुल्लाह अखुंदजादा ने हक्कानी नेटवर्क के शीर्ष नेता खलीलुर रहमान हक्कानी को विभिन्न क्षेत्रों के लोगों से मिलने और देश में सुरक्षा और आर्थिक तनाव को कम करने का काम सौंपा है।

खलीलुर रहमान जलालुद्दीन का भाई है और उस पर विदेशी बलों पर सबसे घातक ह’मलों में से कुछ की साजिश रचने का संदेह है, जिसके लिए उसकी गिर’फ्तारी के लिए सूचना देने के लिए $ 5 मिलियन का अमेरिकी इनाम दिया गया था

एक आदिवासी बुजुर्ग एहसानुल्ला अमीन मुनव्वर ने कहा कि वह सुरक्षा और अर्थशास्त्र जैसे चुनौतीपूर्ण मुद्दों को हल करने और सोशल नेटवर्किंग के माध्यम से तालिबान की सहायता करने के लिए जिरगा में भाग ले रहे हैं।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article