विवादित नक्शे को नेपाल भेजेगा सयुंक्त राष्ट्र, भारत के तीन क्षेत्र किए हुए है शामिल

कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को अपने संशोधित नक्शे में शामिल कर नेपाल अब भारत के खिलाफ सयुंक्त राष्ट्र का दरवाजा खटखटाने वाला है। इसके अलावा वह अंतराष्ट्रिय समुदाय को भी नक्शा भेजेगा।

जानकारी के अनुसार, नेपाल के भूमि प्रबंधन मंत्रालय ने नक्शे को अंग्रेजी में अनुवादित कर संयुक्त राष्ट्र संगठन (UNO) और गूगल सहित अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भेजने की तैयारी कर ली है। मंत्री पद्मा अर्याल ने कहा कि हम जल्द ही कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को संशोधित नक्शे में शामिल करते हुए अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भेजेंगे।

उन्होंने कहा कि हम नक्शे को अंग्रेजी में अनुवादित कर रहे हैं. अगस्त के मध्य तक नक्शा हम भेज देंगे। नेपाली मापन विभाग के सूचना अधिकारी दामोदर ढकाल के मुताबिक, नेपाल के नए नक्शे की 4000 कॉपी को अंग्रेजी में प्रकाशित करने का काम जारी है। इसके लिए एक कमेटी का भी गठन किया गया है।

विभाग ने देश के भीतर वितरित किए जाने वाले नक्शे की 25,000 कॉपियां प्रिंट करा ली हैं। स्थानीय इकाइयों, प्रांतीय और अन्य सभी सार्वजनिक कार्यालयों में ये कॉपी मुफ्त में दी जाएंगी, जबकि जनता इसे 50 रुपये में खरीद सकती है।

बता दें कि नेपाल ने अपना नया राजनीतिक नक्शा 20 मई को जारी किया था, जिसमें भारत के तीन क्षेत्रों को शामिल किया गया है। इसी मुद्दे पर दोनों देशों के बीच में विवाद पनपा है। हालांकि, भारत ने नेपाल के इस नक्शे पर दो टूक कहा था- हम इस तरीके से क्षेत्र के कृत्रिम इजाफे को नहीं स्वीकार करेंगे।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE