मुस्लिम महिलाओं ने फ्रांस में शुरू किया ‘Don’t touch my hijab’ अभियान

हाल ही में फ्रांस में चर्चा का विषय बने हुए नए बिल को लेकर फ्रांसीसी सरकार पर इ’स्लामोफो’बिया के आरोप लग रहे है। इस बिल को इस्ला’मोफो’बिक बताया जा रहा है। बिल में मुस्लिम महिलाओं के हिजाब और नकाब पहनने पर पाबंदी लगाई गई है।

बिल के वि’रोध में  कई फ्रांसीसी महिलाओं ने सोशल मीडिया पर “मेरे हिजाब को मत छुओ” आंदोलन शुरू किया। अन्य फ्रांसीसी मुस्लिम महिलाओं के साथ आंदो’लन की शुरुआत करने वाले दुइगु अकाइन ने अपने देश में इ’स्लामोफो’बिक दृष्टिकोण और कानूनों के बारे में अनादोलु एजेंसी से बात की।

25 वर्षीय, एक फ्रांसीसी मुस्लिम महिला अकिन, जो एक हेडस्कार्फ़ पहनती है ने कहा कि फ्रांस में हिजाब लंबे समय से विवा’द का विषय बना हुआ है, और इसे बार-बार सामने लाया जाता है। उन्होने एक तख्ती पर “hands off my hijab” लिखकर फ्रांस के हिजाब बैन के प्रति अपना वि’रोध दिखाया।

उन्होने बताया, “हमने #pastoucheamonhijab [मेरे हिजाब को हाथ मत लगाओ] हेशटेग चलाया और सोशल मीडिया पर तस्वीरें पोस्ट कीं। उन लोगों के समर्थन के साथ जिन्होंने हमारे संदेश को देखा, हमारे आंदोलन का मीडिया में विस्तार हुआ।”

अकिन ने कहा कि आंदो’लन को फ्रांस और विदेशों दोनों में बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली। “यहां तक कि कुछ पत्रकारों ने भी इस बात पर हैरानी के साथ प्रतिक्रिया दी कि COV’ID-19 महा’मारी के दौरान भी हिजाब फ्रांस में इतना बड़ा मुद्दा कैसे है।”

यह कहते हुए कि मुस्लिम आबादी वाले स्ट्रासबर्ग जैसे शहरों में लोग एक साथ रहने और एक-दूसरे का सम्मान करने के अधिक आदी हैं, अकिन ने कहा: “कुछ क्षेत्रों में जहां मुस्लिम नहीं हैं, फ्रांसीसी मुसलमानों के खिलाफ बहुत पूर्वाग्रहित हैं। यह केवल इसलिए है क्योंकि उन्हे मीडिया से इस्लाम के बारे में जानकारी मिली है। ”