लॉकडाउन काफी नहीं, पहले तलाशों, आइसोलेट करो, फिर टेस्ट और इलाज: डबल्यूएचओ

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेबियस ने बुधवार को कहा कि COVID -19 का मुकाबला करने के लिए कई देशों द्वारा लागू किए जा रहे लॉकडाउन, दुनिया से वायरस को मिटाने के लिए पर्याप्त नहीं होंगे।

उन्होने कहा, “COVID-19 के प्रसार को धीमा करने के लिए, कई देशों ने“ लॉकडाउन ”उपायों की शुरुआत की। लेकिन अपने दम पर, ये उपाय महामारी को नहीं बुझाएंगे। हम सभी देशों से इस समय का उपयोग कर कोरोनोवायरस पर हम’ला करने का आह्वान करते हैं। आपने अवसर की एक दूसरा जरिया बनाया है, ”

उन्होंने कहा, “लोगों को घर पर रहने और जनसंख्या आंदोलन बंद करने के लिए कहना समय खरीद रहा है और स्वास्थ्य प्रणालियों पर दबाव को कम कर रहा है। लेकिन अपने दम पर, ये उपाय महामारी को नहीं बुझाएंगे।”

उन्होने कहा, “हम उन सभी देशों को बुलाते हैं जिन्होंने तथाकथित लॉकडाउन उपायों को पेश किया है, ताकि वायरस पर हम’ला करने के लिए इस समय का उपयोग किया जा सके। आपने अवसर की दूसरी विंडो बनाई है, सवाल यह है कि आप इसका उपयोग कैसे करेंगे? ”

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख ने कहा, “अलगाव, परीक्षण, उपचार और ट्रेस को खोजने के लिए आक्रामक उपाय न केवल चरम सामाजिक और आर्थिक प्रतिबंधों में से सबसे अच्छा और सबसे तेज़ तरीका है, बल्कि उन्हें रोकने का सबसे अच्छा तरीका भी है,”।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अपनी दैनिक कोरोनवायरस बीमारी (COVID-19) की स्थिति रिपोर्ट में कहा है कि दुनिया भर में उपन्यास कोरोनवायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 18,000 से अधिक मौ’तों के साथ 4 लाख से अधिक हो गई है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE

[vivafbcomment]