कुवैत के इस्लामी मामलों के मंत्रालय ने 74 विदेशी कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

सीमांत रोजगार पर अंकुश लगाने के प्रयास के तहत एंडॉमेंट एंड इस्लामिक अफेयर्स मंत्रालय ने एक ठेका कंपनी को एक पत्र भेजकर विभिन्न विभागों में काम कर रहे 74 कर्मचारियों की सेवा समाप्त करने की मांग की है।

समाप्त होने वाली नौकरियों की सूची में एक्सपैट और स्टेटलेस व्यक्ति शामिल हैं, जिन्हें बिदून के नाम से भी जाना जाता है। सूची में शामिल लोगों को सूचित किया गया है कि उनकी सेवाएं तीन महीने में समाप्त हो जाएंगी। इसके अलावा मंत्रालय द्वारा अनुबंधित कंपनी ने प्रवासी कर्मचारियों को सूचित किया कि तीन महीने की अवधि 31 मई को समाप्त हो रही है और उन्हें तारीख से पहले अपने निवास परमिट की समीक्षा करने की आवश्यकता होगी।

हाल के महीनों में, सरकारी नौकरियों से बड़ी संख्या में एक्सपेट्स समाप्त हो गए हैं क्योंकि कुवैत सार्वजनिक क्षेत्र में 100 प्रतिशत कुवैती कार्यबल बनाने की दिशा में काम कर रहा है।

सिविल सेवा ब्यूरो ने सार्वजनिक क्षेत्र में काम कर रहे एक्सपेट्स की संख्या को कम करने के लिए एक रिपोर्ट तैयार की है ताकि कुवैत के स्थानीय लोगों को नौकरी दी जा सके। सिविल सेवा आयोग ने घोषणा की कि 2017 के बाद से, 16 सरकारी एजेंसियों में से 13 ने कुवैतीकरण हासिल किया है।