पुतिन के आलोचक नवलनी को रूसी जे’ल में नहीं दिया गया कुरान, किया मुकदमा

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रमुख आलोचक अलेक्सी नवालनी ने मंगलवार को रूस के अधिकारियों पर बड़ा गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि रूसी अधिकारियों ने जे’ल में उन्हे कुरान देने से इंकार कर दिया। इस मामले में उन्होने अब रूसी अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

पुराने गबन के आरोप में ढाई साल की सजा काट रहे नवलनी को फरवरी में रूस से जर्मनी लौटने के बाद जे’ल में डाल दिया गया था, जहां वह एक जहर के ह’मले का इलाज करवा रहा था।

रूस के सबसे प्रमुख विपक्षी व्यक्ति ने दो हफ्ते पहले पर्याप्त चिकित्सा उपचार की मांग को लेकर भूख हड़ताल की थी। लेकिन उन्होने आरोप लगाया कि भूख हड़ताल से रोकने के लिए रूसी अधिकारियों ने उन्हे जबरन खाना खिलाने की कोशिश की। इस सबंध में उन्हे धम’काया भी गया।

नवलनी ने कहा कि वह जेल अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर रहा था, क्योंकि उन्होंने मुझे अपना कुरान नहीं दिया। और यह उल्लंघन है। उन्होने कहा, जब मुझे जेल हुई, तो मैंने उन तरीकों की एक सूची बनाई जो मैं खुद को सुधारना चाहता था कि मैं जेल में पूरा करने की कोशिश करूंगा। बिंदुओं में से एक कुरान को गहराई से अध्ययन और समझने के लिए था।”

उन्होंने कहा, “किताबें हमारी सब कुछ हैं, और अगर आपको पढ़ने के अधिकार के लिए मुकदमा करना है, तो मैं मुकदमा करूंगा।” उनकी पोस्ट ऐसे समय में आई जब दुनिया भर के मुस्लिमों ने रमजान की शुरुआत की।