कैदि’यों की अदला-बदली अपर अमेरिका से बोला ईरान – आगे बढ़ने के लिए पूरी तरह तैयार

ईरान ने रविवार को जोर देकर कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ कैदि’यों की अदला-बदली पर सहमति हुई है। ईरानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का ये बयान वाशिंगटन द्वारा इस तरह के समझौते से इनकार करने के एक दिन बाद सामने आया है।

सईद खतीबजादेह ने एक ट्वीट में कहा, ‘अपमानजनक’ = अमेरिका इस साधारण तथ्य से इनकार करता है कि बंदि’यों के मामले पर एक सहमत सौदा है। यहां तक ​​कि इसकी घोषणा कैसे करें।” उन्होने कहा, “मानवतावादी अदला-बदली पर अमेरिका और ब्रिटेन के साथ वियना में सहमति बनी थी-जेसीपीओए (संयुक्त व्यापक कार्य योजना) से अलग – सभी पक्षों के 10 कैदि’यों की रिहाई पर। ईरान आज आगे बढ़ने के लिए तैयार है।”

दूसरी और संयुक्त राज्य अमेरिका ने शनिवार को तेहरान पर परमा’णु वार्ता में गतिरोध के लिए दोष को हटाने के “अपमानजनक” प्रयास का आरोप लगाया और इस बात से इनकार किया कि कै’दी की अदला-बदली पर कोई समझौता हुआ था। इससे पहले शनिवार को ईरान के शीर्ष पर’माणु वार्ताकार अब्बास अराक्ची ने ट्वीट किया था कि अमेरिका और ब्रिटेन को मानवीय आदान-प्रदान को पर’माणु वार्ता से जोड़ना बंद कर देना चाहिए।

वार्ता का उद्देश्य ईरान और छह प्रमुख शक्तियों के बीच 2015 के समझौते को पुनर्जीवित करना है जिसने ईरान पर प्रतिबंध हटाने के बदले तेहरान के पर’माणु कार्यक्रम पर अंकुश लगाया। वाशिंगटन 2018 में इस डील से पीछे हट गया और ईरान पर प्रतिबं’ध लगा दिए।

अराक्ची ने कहा कि तेहरान और वाशिंगटन के बीच सातवें दौर की अप्रत्यक्ष वार्ता तब तक फिर से शुरू नहीं होगी जब तक कि ईरान के कट्टर राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी अगस्त की शुरुआत में पदभार ग्रहण नहीं कर लेते। वियना में छठे दौर की वार्ता 20 जून को स्थगित हुई। ईरान ने हाल के वर्षों में कई अमेरिकियों सहित दर्जनों दोहरे नागरिकों को गि’रफ्तार किया है, जिनमें से ज्यादातर जासू’सी के आरोप में हैं।