एर्दोगान बोले – ग्रीस फैला रहा अराजकता, अब खुद भी नहीं बच पाएगा

ग्रीस ने प्रवासियों को रोकने के लिए तुर्की के साथ अपनी उत्तरी सीमा पर 2012 में स्थापित एक सीमेंट और कांटेदार तार की बाड़ का विस्तार करने का फैसला किया है। जिसके बाद दोनों देशों में चल रहे तनाव में इजाफा देखा जा रहा है।

प्रवक्ता स्टेलियोस गोडास ने कहा कि हजारों शरण चाहने वालों ने फरवरी के अंत में यूरोपीय संघ के सदस्य ग्रीस में प्रवेश करने की कोशिश की जब अंकारा ने कहा कि वह अब उन्हें ऐसा करने से नहीं रोकेगा। बता दें कि ग्रीस मध्य पूर्व और उससे आगे के देशों में पलायन करने वाले लोगों के लिए यूरोप का प्रवेश द्वार है।

दूसरी और तुर्की राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोगन ने सोमवार को कहा कि तुर्की की नौसेना पूर्वी भूमध्य सागर में ग्रीस की “अराजकता” के बाद भी वापस नहीं आएगी। एर्दोगन ने एक कैबिनेट बैठक के बाद कहा, “जो लोग तुर्की की नौसेना के सामने ग्रीस को खड़ा कर देंगे, वे उनके पीछे नहीं खड़े होंगे।”

उन्होंने कहा कि एथेरा को अंकारा द्वारा दावा किए गए क्षेत्रों में, नौसैनिक के रूप में जाने जाने वाले समुद्री नौवहन और मौसम संबंधी सलाह प्रसारित करने का अधिकार नहीं है। उन्होने कहा, ग्रीस ने अराजकता को बोया है कि वह इससे बच नहीं पाएगा।

तुर्की ने पूर्वी भूमध्य सागर के एक विवादित हिस्से में अपने ओरूच रिस सर्वेक्षण जहाज के अन्वेषण मिशन को बढ़ाकर 27 अगस्त कर दिया है। इस क्षेत्र में तनाव बढ़ गया है। एथेंस ने सर्वेक्षण को अवैध बताया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE