No menu items!
21.1 C
New Delhi
Thursday, October 28, 2021

इन दो मुस्लिम मुल्क में छिड़ने से रुक गई जं’ग, इस्लामिक वर्ल्ड ने ली राहत की सांस

अज़रबैजान ने कहा है कि वह इस महीने की शुरुआत में ईरान के साथ अपने राजनयिक संबंधों को सुधारना चाहता है। बता दें कि इस महीने की शुरुआत में दोनों देशों ने एक-दूसरे पर कई आरोप लगाए थे। जिसमे ईरान की और से अज़रबैजान में इजरा’यली से’ना के मौजूद होने का आरोप प्रमुख था।

अजरबैजान के विदेश मंत्रालय के आज एक बयान के अनुसार, राजनयिक विवादो को हल करने और समझौता करने के लिए अज़ेरबेजान के विदेश मंत्री जेहुन बायरामोव और उनके ईरानी समकक्ष, होसैन अमीर-अब्दुल्लाहियन के बीच फोन पर बातचीत भी हुई।

बयान में कहा गया है, “दोनों पक्षों ने हाल ही में की गई नुकसानदेह बयानबाजी पर ध्यान दिया, जो हमारे देशों के बीच मैत्रीपूर्ण संबंधों के स्तर और बातचीत के माध्यम से सभी मतभेदों को हल करने की आवश्यकता के अनुरूप नहीं है।”

इसमें कहा गया है कि “मंत्रियों ने हमेशा क्षेत्रीय अखंडता और देशों की संप्रभुता के सिद्धांतों का सम्मान करने के महत्व पर जोर दिया।” ईरान के विदेश मंत्रालय ने भी कथित तौर पर राजनयिक बातचीत और बातचीत के माध्यम से अपने विवाद को सुलझाने के लिए अपने समझौते की पुष्टि की है।

पिछले महीने दोनों पड़ोसियों के बीच संबंधों में उस वक्त खटास आ गई जब तेहरान ने बाकू पर देश के भीतर इज’रायली से’ना की सक्रिय उपस्थिति की मेजबानी करने का आरोप लगाया। जिसे वह एक अपवित्र गठबंधन के रूप में देखता है उसके खिलाफ कोई भी आवश्यक कार्रवाई करने पर ज़ोर देता है।

हालाँकि, अजरबैजान ने अपनी धरती पर इजरा’यली सेना की किसी भी उपस्थिति से इनकार किया। यह विवाद पिछले साल सितंबर और अक्टूबर में आर्मेनिया के साथ सं’घर्ष से पहले अज़रबैजान को हथि’यारों की आपूर्ति करने के बाद आया है।

नागोर्नो-कराबाख के विवादित क्षेत्र को लेकर लड़ाई में अजरबैजान ने तुर्की और इज़राइली ड्रोन ने बाकू को इस क्षेत्र पर फिर से कब्जा करने में मदद करने में एक प्रमुख भूमिका निभाई, और तेहरान के साथ अपने तनाव को और बढ़ा दिया।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,993FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts