ग्रेटा थनबर्ग ने की ऑस्ट्रेलिया में अडानी के कोयला खदानों के प्रोजेक्ट पर रोक की मांग

मेलबोर्न: आस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग और पर्यावरण की मौजूदा स्थिति की चिंताओं के बीच जलवायु परिवर्तन और संरक्षण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने ऑस्ट्रेलिया में भारतीय उद्योगपति गौतम अडानी की कोल माइनिंग प्रोजेक्ट पर रोक लगाने की मांग की है।

ग्रेटा थनबर्ग ने ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग के लिए गौतम अडानी को अप्रत्यक्ष रूप से निशाने पर लेते हुए कहा कि अडानी के प्रोजेक्ट्स पर्यावरण के लिए घातक साबित हो रहे हैं। ग्रेटा का मानना है कि इन कोयले की खानों से पर्यावरण को गंभीर रूप से हानि हो रही है।

ग्रेटा ने ट्विटर पर गौतम अडानी की पार्टनर जर्मन कंपनी सीमेंस से इस परियोजना पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया है। ग्रेटा ने हैशटैग #StopAdani के साथ ट्वीट कर ऑस्ट्रेलियाई पर्यावरणविदों का ध्यान आकर्षित किया है। ऐसे में अब ग्रेटा थनबर्ग की अपील पर सीमेंस अब सोमवार को कोई फैसला लेगा। ऐसी जानकारी कंपनी की ओर से दी गई है।

बता दें कि पिछले साल दिसंबर में पोलैंड के काटोविस में संयुक्त राष्ट्र की COP24 बैठक में भी ग्रेटा ने हिस्सा लिया था और पर्यावरण पर भाषण दिया था। इस मंच से ग्रेटा ने कहा, ‘हम दुनिया के नेताओं से भीख मांगने नहीं आए हैं। आपने हमें पहले भी नजरअंदाज किया है और आगे भी करेंगे। अब हमारे पास वक्त नहीं है। हम यहां आपको यह बताने आए हैं कि पर्यावरण खतरे में है।’

इतना ही नहीं ग्रेटा ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी एक वीडियो के जरिए संदेश भेजा था। स्वीडन की इस छात्रा ने पीएम नरेंद्र मोदी को जलवायु परिवर्तन को लेकर गंभीर कदम उठाने की मांग की थी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE