Home कानून सम्बंधित हज से सम्बंधित ज़रूरी खबर, जाने यह नियम

हज से सम्बंधित ज़रूरी खबर, जाने यह नियम

205
SHARE

राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग ने कहा है कि हज तीर्थयात्री हज समिति के उपभोक्ता नहीं हैं, जो भारत की हज समिति के रूप में हैं, जो तीर्थयात्रियों को हज पर  ले जाने  के लिए व्यवस्था प्रदान करता है, बिना किसी लाभ के सेवाएं प्रदान करता है और केवल इसके लिए किए गए वास्तविक खर्चों को इकट्ठा करता है. हज समिति ना तो कोई फीस और ना ही किसी भी प्रकार के सेवा शुल्क एकत्र करती है और बिना किसी लाभ के उद्देश्य से पूरी तरह से काम कर रही है, इसलिए, तीर्थयात्रियों को उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम की धारा 2 (1) (डी) के तहत उपभोक्ता नहीं कहा जा सकता है. एनसीडीआरसी ने यह भी कहा कि तीर्थयात्रियों उपभोक्ता नहीं हैं, हज समिति से किसी भी मुआवजे का दावा नहीं कर सकते हैं.

वर्तमान मामले में राजस्थान के जोधपुर के निवासियों शिकायतकर्ता अब्बास अली और फैयाज हुसैन ने हज समिति को हज तीर्थयात्रा पर जाने के लिए वर्ष 2008 में एक आवेदन पेश किया था. आवेदन जमा करते वक़्त शिकायतकर्ताओं को ग्रीन श्रेणी समेत चुनने के लिए 3 श्रेणियां उपलब्ध थीं जो उपलब्ध तीन श्रेणियों में से सर्वश्रेष्ठ थीं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बहुत सारे ड्रॉ में शिकायतकर्ताओं का नाम सामने नहीं आया. लेकिन बाद में अतिरिक्त कोटा में उन्हें चुना गया और इसके बाद शिकायतकर्ताओं ने तीर्थयात्रा के लिए  हर एक व्यक्ति के 96, 940 रुपए दिए.

शिकायतकर्ताओं ने समिति के खिलाफ शिकायत दायर की थी क्योंकि शिकायतकर्ताओं को ग्रीन श्रेणी में समायोजित नहीं किया गया था बल्कि अजीज़िया श्रेणी में रखा गया थ. शिकायतकर्ताओं ने रुपये की वापसी का दावा किया था. तीर्थयात्रियों का आरोप है कि शिकायतकर्ताओं से 22,362 रूपए अधिक एकत्रित किये गये.

हज समिति ने दलील दी है कि शिकायतकर्ता उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के अर्थ में उपभोक्ता नहीं हैं. समिति ने एनसीडीआरसी के समक्ष प्रस्तुत किया कि उस वक़्त तक अतिरिक्त कोटा के तहत शिकायतकर्ताओं और अन्य लोगों की व्यवस्था को रियाल की दर में वृद्धि हुई थी और इसलिए शिकायतकर्ताओं को भुगतान की गई राशि के लिए हरे रंग की श्रेणी में समायोजित नहीं किया जा सका. जैसा कि पहले हरी श्रेणी की लागत 96, 940 थी, जो बाद में बढ़ाकर 1,06,742 रूपए कर दी गयी.

हज 2008 के दिशानिर्देशों के खंड 18 ने कहा कि हज समिति अधिनियम, 2002 के तहत हज समिति की स्थापना तीर्थयात्रा पर जाने के इच्छुक भारतीय तीर्थयात्रियों के लिए व्यवस्था करने के लिए की गई है और इसके द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं पर विचार किए बिना हैं.

खंड 18 का जिक्र करते हुए एनसीडीआरसी ने “संसद अधिनियम के तहत गठित भारत की हज समिति, बिना किसी विचार के तीर्थयात्रियों को सेवा प्रदान करती है. मैं यह भी समझता हूं कि भारत की हज समिति की सेवाएं नि: शुल्क हैं. भारत की हज समिति, 1986 के उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के दायरे में नहीं आती है. इसलिए, मैं उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के तहत भारत की हज समिति के खिलाफ किसी मुआवजे का दावा नहीं करूंगा. “आयोग ने आगे कहा कि” उपभोक्ता मंच इस प्रकृति की शिकायत का मनोरंजन करने के लिए कोई अधिकार क्षेत्र नहीं होगा. इसलिए अपर्याप्त आदेश (राज्य आयोग का) एक तरफ रखा गया है और शिकायत को बिना किसी आदेश के, खारिज कर दिया गया है. “

(Lawzgrid – इस लिंक पर जाकर आप ऑनलाइन अधिवक्ता मुहैया कराने वाले एप्लीकेशन मोबाइल में इनस्टॉल कर सकते हैं, कोहराम न्यूज़ के पाठकों के लिए यह सुविधा है की बेहद कम दामों पर आप वकील हायर कर सकते हैं, ना आपको कचहरी जाने की ज़रूरत है ना किसी एजेंट से संपर्क करने की, घर घर बैठे ही अधिवक्ता मुहैया हो जायेगा.)

Loading...